January 20, 2021

Live Akhbar

Pop Culture Hub

Delhi high court

Delhi high court

Delhi High Court : शादी के वादे पर सेक्स हमेशा नहीं होता बलात्कार

Highlights –

  • दिल्ली हाई कोर्ट ने बताया शादी के वादे पर सेक्स (SEX) करना हमेशा बलात्कार नहीं होता |
  • महिला लगातार लंबे समय तक अपनी सहमति से शारीरिक संबंध में है तो बलात्कार नहीं |
  • बलात्कार के आरोप के बरी के ट्रायल कोर्ट के आदेश को उच्च न्यायालय ने बरकरार रखा।

SEX on marriage promise not “RAP” always

दिल्ली हाई कोर्ट न्यायालय के अनुसार, शादी के वादे पर सेक्स (SEX) करना हमेशा बलात्कार नहीं होता, अगर महिला लगातार लंबे समय तक अपनी सहमति से शारीरिक संबंध में है |

न्यायमूर्ति विभु बाखरू नकुछ मामलों में विवाह का वादा यौन संबंध स्थापित करने के लिए सहमत होने के लिए एक पक्ष को प्रेरित कर सकता है।

एक महिला द्वारा बलात्कार के मामले को खारिज किया गया |

” जिसका महीनों तक एक पुरुष के साथ शारीरिक संबंध थे |”

READ MORE : 2021 में छात्रों के लिए बड़ी राहत,साल में 4 बार होगी JEE Mains की परीक्षा

महिला ने आरोप लगाया था कि –

  • उस आदमी ने उसे धोखा दिया था और शादी का झूठा वादा करके बार-बार शारीरिक संबंध स्थापित किए |
  • उसे किसी और महिला के लिए छोड़ दिया था।

हाई कोर्ट के मुताबिक –

यह मामले बिल्कुल साफ़ है क्योंकि महिला उस व्यक्ति से प्यार करती थी इसलिए शारीरिक संबंध महिला ने अपनी सहमति से उस व्यक्ति के साथ शारीरिक संबंध बनाया थे | 

अदालत ने कहा –

अक्सर शादी करने का झूठा वादा करके दूसरी पार्टी का शोषण करने का इरादे होता है |

एक निश्चित क्षण में इस तरह के संकेत भले ही सहमति दे सकते हैं, लेकिन संबंधित पार्टी को मना करना चाहिए |

इस प्रकार के मामलों में –
भारतीय दंड संहिता की धारा 375 के तहत यह बलात्कार का मामला हुआ |

बलात्कार के आरोप के बरी के ट्रायल कोर्ट के आदेश को उच्च न्यायालय ने बरकरार रखने का फैसला किया।

READ MORE : Akshay Kumar 6 films to be released in 2021, check here