Selva Hussain बैग में रखती हैं अपनी दिल की धड़कन, क्या है मामला?

selva hussain portable heart

मानव शरीर का सबसे महत्वपूर्ण अंग है दिल। अगर इसमें छोटी सी भी गड़बड़ी हो जाए तो हमारे जीवन में भारी बदलाव आ सकता है। ऐसा ही कुछ ब्रिटेन में रहने वाली एक महिला के साथ हुआ है। इस महिला का दिल शरीर के अंदर नहीं बल्कि वह अपने दिल को एक बैग में रखती हैं। 39 वर्षीय सेल्वा हुसैन (Selva Hussain) एक मां है और वह अपने दिल को अपने बैग में लिए घूमती हैं।

प्लास्टिक के हैं चैंबर


सेल्वा का बैग पैक 15 lb का है। इसके अंदर एक बैटरी, एक इलेक्ट्रिक मोटर और एक पंप है। ट्यूब के माध्यम से सीने में प्लास्टिक के चैंबर्स तक हवा को पहुंचाया जाता है और उसके बाद यह शरीर के चारों ओर खून को धक्का देते हैं।

क्या है पूरी कहानी


सेल्वा हुसैन की कहानी तब से शुरू होती है जब वह काफी बुरी तरह से सांस लेने लगी। जब उन्हें एक स्थानीय अस्पताल भेजा गया तो उन्हें बताया गया कि उन्हें दिल की एक गंभीर बीमारी है।
इस गंभीर बीमारी से पीड़ित होने के 4 दिन बाद ही सेल्वा को एंबुलेंस के द्वारा प्रसिद्ध हरेफील्ड अस्पताल ले जाया गया। यहां पर उन्हें जिंदा रखने के लिए विशेषज्ञों ने एक बड़ी लड़ाई की।

  • वह एक सपोर्ट पंप पर जीवित रहने के लिए बहुत बीमार थी।
  • साथ ही हृदय प्रत्यारोपण कराने के लिए भी उनकी हालत ठीक नहीं थी।
  • ऐसे में उनके पति ने सेल्वा को एक कृत्रिम हृदय देने के लिए अनुमति दे दी।

इसके बाद ही उनके प्राकृतिक दिल को हटा दिया गया था। सर्जनों ने उनकी पीठ पर एक कृत्रिम प्रत्यारोपण कर विशेष इकाई लगाई गई। उनके बैग पैक में बैटरी के दो सेट होते हैं जो मोटर को पावर देते हैं। उनके पास एक दूसरी यूनिट भी है जो एक स्टैंडबाई के तौर पर है। अगर पहला फेल हो जाता है तब उसे इस्तेमाल कर सकती हैं।

होते हैं 90 सेकंड

  • उनके पति अल या किसी अन्य देखभाल करता को हमेशा उनके साथ रहना चाहिए।
  • अगर कोई आपदा आ जाती है तो उनके पास 90 सेकेंड का वक्त होता है।
  • जिसमें वह बैकअप मशीन से कनेक्ट कर पाए।
  • प्रति मिनट 138 बीट्स पर यह एक लय में उसके शरीर को राउंड ड्राइव करता है।
  • इससे उसकी छाती वाइब्रेट होती है।
  • उनके बैकपैक में हमेशा मोटर की पंपिंग और सिटी का शोर होते रहता है।
  • उनके बैगपैक से दो बड़ी प्लास्टिक ट्यूब जुड़े हुए हैं।
  • यह उनके पेट के बटन के माध्यम से शरीर में प्रवेश करती है।
  • इसके बाद ही यह छाती तक जाती है।


मैं सर्जरी से पहले और बाद में इतनी बीमार थी कि मुझे घर आने के लिए फिट होने के लिए यह सब समय लगा।

सेल्वा हुसैन

SEE PHOTOS:

ALSO READ: COVID-19 Vaccine: फाइज़र वैक्सीन को अमेरिका ने दी मंजूरी

https://www.liveakhbar.in/2020/12/covid-19-vaccine-2.html

Avatar

Written by GARIMA

Garima has knowledge about SEO and experience in content writing. Garima is passionate about content writing, video editing, website designing, and learning new skills. Content writing has always been there in her potential. Reach her at garima@liveakhbar.in

Leave a Reply

Avatar

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ISRO

ISRO: 17 दिसंबर को संचार उपग्रह CMS -01 लॉन्च किया जाएगा |

solar eclipse

सूर्यग्रहण 2020: तारीख, भारत का समय और अंतिम सूर्यग्रहण का महत्व