January 23, 2021

Live Akhbar

Pop Culture Hub

Indian navy day

Indian Navy Day: जानें इतिहास, महत्व और महत्वपर्ण तथ्य

भारत के सपूत हमारे लिए सब कुछ न्योछावर कर देते हैं। सरहदें हों या आस्मां या फिर जलमार्ग, हमारे सैनिक दुश्मनों को धूल चटाने में एक भी मौका नहीं गंवाते। ऐसे ही पराक्रम और शौर्य को नमन करते हुए आज हम सब भारतीय नौसेना दिवस (Indian Navy Day) मनाएंगे। 4 दिसंबर केवल एक तारीख नहीं, एक जश्न है जो हमें हमारे वीरों के पराक्रम के बारे में याद दिलाता है। इस दिन भारत-पाकिस्तान युद्ध में शहीद हुए वीरों को भी हम याद करते हैं।

4 दिसंबर ही क्यों

  • हर तारीख का अपना महत्व होता है.
  • इसीलिए 4 दिसंबर को ही भारतीय नौसेना दिवस मनाया जाता है।
  • ऐसा इसलिए क्योंकि आजादी के बाद वर्ष 1971 में भारतीय नौसेना द्वारा ऑपरेशन ट्राइडेंट शुरू किया गया।
  • 3 दिसंबर को पाकिस्तान ने हमारे हवाई और सीमावर्ती इलाकों में हमला किया था।
  • इसी के जवाब में भारतीय नौसेना ने 4 दिसंबर को यह ऑपरेशन शुरू किया।
  • इसके तहत पाकिस्तान के कई जहाज और ऑयल टैंकर भी तबाह हो गए।
  • इस ऑपरेशन की सफलता को ध्यान में रखते हुए इसे इसी तारीख को मनाया जाता है।

ब्रिटिश ने की स्थापना

पहली बार भारत में नौसेना की स्थापना 1612 में की गई। यह कार्य ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा किया गया था। उन्हें अपने जहाजों को सुरक्षित रखने के लिए इसकी जरूरत पड़ी थी। कंपनी ने इसे रॉयल इंडियन नौसेना का नाम दिया। आज़ादी के बाद इसका पुनर्गठन किया गया। बाद में इसका नाम भारतीय नौसेना कर दिया गया।

Indian navy

प्रधानमंत्री मोदी ने दी बधाई

भारतीय नौसेना दिवस पर देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भारतीय नौसेना की सराहना की। उन्होंने अपने ट्वीट में कहा कि तटों को सुरक्षित रखने के लिए पूरी निडरता से काम करते हैं। कई बार वे मानवीय सहयोग भी प्रदान करते हैं।


है पांचवीं सबसे बड़ी नौसेना

हमारे लिए बेहद गर्व की बात है कि भारतीय नौसेना विश्व की पांचवीं सबसे बड़ी नौसेना है। हर असंभव कार्य को संभव में परिवर्तित कर देने वाले भारतीय नौसेना ने ऐसे कई कीर्तिमान रचे हैं जिस पर पूरे देश को गर्व है। वर्तमान में हमारे पास करीब 67,000 नौसेना कर्मचारी और 295 नौसेना हथियार हैं। 2020 के लिए विशेष विषय है: “भारतीय नौसेना का मुकाबला तैयार, विश्वसनीय और सामंजस्यपूर्ण”

ALSO READ: Bhopal Gas Tragedy 1984:औद्योगिक इतिहास का सबसे बड़ा हादसा

https://www.liveakhbar.in/2020/12/bhopal-gas-tragedy-1984.html