चक्रवात निवार के बाद अब Cyclone Burevi के आने की आशंका

Cyclone Burevi

चक्रवात निवार के बाद अब 1 दिसंबर, मंगलवार को भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने कहा कि Cyclone Burevi के 4 दिसंबर, शुक्रवार को तमिलनाडु में लैंडफॉल होने की उम्मीद है।

आशा है कि 2 दिसंबर की शाम या रात की अवधि में यह चक्रवाती तूफान श्रीलंका के तट को त्रिंकोमाली के समीप पार कर जाएगा। चक्रवात 75-85 km/h की तेजी से 95 km/h की रफ्तार से हवा के साथ त्रिंकोमाली को पार कर सकता है।

आईएमडी की रिपोर्ट –

चक्रवात की पश्चिम की ओर बढ़ने की भी अधिक संभावना है, मन्नार की खाड़ी और उसके आस-पास के कोमोरिन क्षेत्र में करीब 3 दिसंबर की सुबह से निकल सकता है। इस के बाद ही करीब 4 दिसंबर की सुबह कन्याकुमारी और पंबन के मध्य करीब पश्चिम-दक्षिण-पश्चिम की तरफ बढ़ेगा और दक्षिण तमिलनाडु तट को पार कर सकता है।

कहा – कहा हो सकती है भारी बारिश –

अंदाजा लगाया जा रहा है कि 2 और 3 दिसंबर को तमिलनाडु राज्य के कन्याकुमारी, थूथुकुडी, तिरुनेलवेली, रामनाथपुरम, तेनकासी, और शिवगंगई में भारी बारिश हो सकती है | वही 3 दिसंबर को केरल राज्य के तिरुवनंतपुरम, पठानमित्त, कोल्लमऔर अलाप्पुझा में भी भारी बारिश की संभावना है।

3 और 4 दिसंबर को लक्षद्वीप में भारी वर्षा हो सकती है।

बारिश की चेतावनी और अलर्ट –

4 दिसंबर तक पुडुचेरी, माहे, दक्षिण-उत्तर तमिलनाडु, कराईकल, दक्षिण-उत्तर केरल, दक्षिण तटीय आंध्र और लक्षद्वीप में बारिश की चेतावनी है | 2 दिसंबर की शाम या रात को cyclone storm Burevi त्रिनोमेले के पास SL तट को पार कर और दक्षिण TN b/w को पार करेगा, कन्याकुमारी और पम्बन को सुबह करेगा |

वही तिरुवनंतपुरम जिले में 3 दिसंबर को रेड अलर्ट रहेगा | 2 और 4 दिसंबर के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है |

दूसरी ओर मछुआरों को कहा गया है कि वे 1 से 3 दिसंबर तक बंगाल के दक्षिण-पश्चिम खाड़ी में उपक्रम न ही करें। 2 से 4 दिसंबर तक अधिकारियों ने कोमोरिन क्षेत्र, मन्नार की खाड़ी और दक्षिण तमिलनाडु-केरल के तटों पर मछली पकड़ने पर रोक लगाई है |

Sweety Jain

Written by Sweety Jain

Sweety Jain has experience in content writing and Search engine optimization. Passionate about researching and learning new skills. Feel free to contact her at sweety@liveakhbar.in

Leave a Reply

Avatar

Your email address will not be published. Required fields are marked *

CANCER IN FEMAILS

कैंसर जैसी बीमारी पर कोरना महामारी का असर

1984 Bhopal Gas Tragedy

Bhopal Gas Tragedy 1984:औद्योगिक इतिहास का सबसे बड़ा हादसा