धनतेरस के अवसर पर सजे बाजार, टूटा बाजार का सन्नाटा

dhanteras 2020

सराफा , बर्तन , वाहन और कपड़े की दुकान सज कर तैयार ग्राहकों को लुभाने के लिए तरह-तरह के जतन कर रहे कारोबारी

धनतेरस के आगमन से पंच दिवसीय त्योहार की शुरुआत हो चुकी है । दीपावली के पूर्व आने वाला धनतेरस त्यौहार एक ऐसा त्यौहार है जिसका क्रेता और विक्रेता दोनों को बेसब्री से इंतजार रहता है। मानना यह है , कि इस दिन की गई बिक्री एवं खरीदा गया सामान दोनों ही अत्यंत लाभदायक होती है। इस दिन का महत्व अलग ही होता है। ज्यादातर लोग इस शुभ अवसर पर सोना , चांदी की सामग्री गृहस्ती के बर्तन और अन्य आवश्यकता अनुसार चीज है खरीदना पसंद करते हैं।

धनतेरस का त्यौहार व्यापारियों के साथ ही खरीदारों के लिए खुशियों की सौगात लाया है ज्योतिषाचार्य का कहना है कि धनतेरस पर्व पर बन रहे सहयोग के कारण पूरे दिन खरीदारी के लिए अच्छा मुहूर्त रहेगा।

बदलते वक्त के साथ लोगों की पसंद से भी बदलती जा रहे हैं । धनतेरस के अवसर पर लोग सोने चांदी की सामग्री गृहस्ती के बर्तन का प्रचलन अधिक था , परंतु आज के समय में परिवर्तन के साथ परंपरागत सामानों के अलावा ग्राहकों का रुझान ऑटोमोबाइल्स , इलेक्ट्रॉनिक , फर्नीचर एवं रेडीमेड कपड़ों की ओर बढ़ गया है , इसलिए इस बात की उम्मीद की जा रही थी कि कोरोनावायरस के बावजूद भी बाजार पर खरीदारों की चहल-पहल अधिक रहेगी और इस बात में कोई संदेह नहीं है कि ऐसा ही हुआ।

पटाखा दुकानों के लगे बाजार-

स्थानीय प्रशासन एवं नगर पालिका प्रशासन के द्वारा इस वर्ष भी पटाखा दुकानें लगाई गई है । बताया जा रहा है कि लगभग 40 से ऊपर पटाखा दुकानों में विभिन्न किस्म के जन आकर्षक पटाखे बिकने आए हैं । अनुमान लगाया गया है कि कोवेड -19 के चलते इस वर्ष पटाखा का व्यवसाय में मंदी होने की संभावनाएं हैं। लेकिन इस वर्ष की बेहद खास और अनोखी बात यह है कि भारत और चीन के विवाद के चलते इस बार चीनी पटाखों पर पूर्णता प्रतिबंध लगा दिया गया है। जिन दुकानों पर चीनी पटाखे या कोई भी चीनी सामान बिकता है लोग उस चीनी सामान को खरीदने से बचते नजर आ रहे हैं , लोगों में यह जागरूकता फैल चुकी है कि चीनी सामान को घर नहीं ले जाना है। लोगों के द्वारा उठाया गया एक कदम देश को आत्मनिर्भर बनाने में काफी हद तक सहायक होगा।

धनतेरस के त्योहार पर दुकानों में आई रौनक –

धनतेरस के अवसर पर बाजार में स्टील बर्तन , इलेक्ट्रॉनिक उपकरण , दो पहिया , तीन पहिया , चार पहिया वाहनों के शोरूम आभूषण के शोरूम , रेडीमेड कपड़ों की दुकान है दीपक की दुकान बाजार में सजी हुई नजर आई हैं । दुकानदारों द्वारा ग्राहकों को लुभाने के लिए अनेक उपहार योजना भी चलाई जा रही हैं। इस त्योहार के अवसर पर बाजार में अलग ही रौनक दिखाई दे रही है बाजार में हर जगह चहल-पहल नजर आ रही है । खरीदारों में और विक्रेताओं में काफी उत्साह नजर आ रहा है। धनतेरस के अवसर पर लोग शुभ मुहूर्त मै अपने पसंद की सामग्री खरीदने बाजार जा रहे हैं। जैसा कि आप सभी जानते होंगे कि धनतेरस का अपना एक अलग महत्व होता है।

ऑनलाइन शॉपिंग का हुआ प्रचलन –

21वीं सदी के साथ विक्रय के लिए अनेक नई योजनाओं के क्रम में ऑनलाइन व्यापार बहुत तेजी से बढ़ रहा है और अपनी जगह बना रहा है। त्योहार के अवसर पर बहुराष्ट्रीय एवं बड़ी कंपनियां अनेक नई योजनाएं एवं उत्पादों मैं छूट की स्कीम लागू कर रही है, जिसके चलते अनेक लोगों द्वारा ऑनलाइन शॉपिंग की जा रही है। ऑनलाइन शॉपिंग का क्रेज दिन-प-दिन बढ़ रहा है । धनतेरस के अवसर पर ई-कॉमर्स कंपनियों ने भी ग्राहकों को लुभाने का मौका नहीं छोड़ा। त्यौहार में तरह-तरह की से लगाई गई और आकर्षक‌ ऑफर्स के साथ ग्राहकों को खुश किया गया।

कोरोना काल में धनतेरस के अवसर पर रखी गई सावधानियां –


कोरोना के चलते व्यापारियों में काफी निराशा रही लेकिन इस त्योहार के कारण व्यापारी बेहद खुश नजर आ रहे हैं।
करोना महामारी के चलते हुए इस बार धनतेरस की खरीदारी के लिए ग्राहकों और कारोबारियों ने विशेष तरह की तैयारियां कर रखी थी। कारोबारियों ने अपनी-अपनी दुकानों पर सैनिटाइजर मास्क‌ का उपयोग करने के लिए लिए ग्राहकों को सचेत किया। जिन लोगों के पास मास्क नहीं थे उन्हें मास्क प्रदान किया। सोशल डिस्टेंसिंग का भी खास ख्याल रखा गया , हालांकि इसके बावजूद भी लोगों में ज्यादा दूरी नहीं देखी गई।

सामान्य रूप से धनतेरस से लेकर दोज तक दीपावली त्योहार के अवसर पर संपूर्ण नगर में जगह-जगह दुकानदारों द्वारा दुकानें लगाकर सामग्री का विक्रय किया जाता है । इस त्योहार के अवसर पर भीड़-भाड़ इकट्ठा होने से बचने के लिए प्रशासनिक व्यवस्थाएं एवं नियंत्रण आवश्यक है।

पूरे देश में सुबह से लेकर देर रात्रि तक पुलिस प्रशासन बाजार क्षेत्र में सख्ती एवं व्यवस्था बनाए रखने के लिए तैनात की गई ताकि पांच दिवसीय त्यौहार उत्साह एवं उमंग शांतिपूर्ण संपन्न हो सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *