अर्नब गोस्वामी : शर्त पर मिली सुप्रीम कोर्ट से जमानत

arnab goswami

LiveAkhbar Desk- SWEETY JAIN

11 नवंबर, बुधवार को रिपब्लिक टीवी के एडिटर-इन चीफ अर्नब गोस्वामी की अंतरिम जमानत याचिका पर सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई. आत्महत्या के लिए उकसाए जाने के आरोप के मामले में अर्नब सहित दो आरोपियों को भी जमानत दे दी गई है.
सुनवाई के दौरान कोर्ट ने महाराष्ट्र सरकार पर कठोरता पूर्वक टिप्पणी करते हुए कहा कि यदि राज्य सरकारें किसी को निशाना बनाती हैं, तो यह न्याय का उल्लंघन करना होगा.

वही शीर्ष अदालत ने जेल प्रशासन और कमिश्नर को आदेश का पालन सुनिश्चित रूप से करने के निर्देश दिए क्योंकि वो नहीं चाहते है कि रिहाई में दो दिनों की देरी हो.

निचली अदालत जमानत की शर्तें यदि सुप्रीम कोर्ट लाने को बोलती तो, दो दिन और लग जाते, इस करण से उन्हें 50,000 का निजी मुचलका जेल प्रशासन को देने को कहा. इससे पहले बॉम्बे हाईकोर्ट ने अर्नब को जमानत देने से मनाकर दिया था, जिसके बाद वे सुप्रीम कोर्ट गए थे.

अर्नब गोस्वामी के वकील हरीश साल्वे की पेशी


अर्नब गोस्वामी के वकील हरीश साल्वे कोर्ट में पेश हुए. उन्होंने कहा, ‘पिछले 7 वर्ष से घाटे में डूबी हुई, अन्वय नाइक की फर्म. संभव है कि पहले उसने अपनी मां की हत्या की और उसके बाद खुद सुसाइड कर ली. अर्नब गोस्वामी के वकील ने बताया कि उन्होंने बचा हुआ सम्पूर्ण रूपया तय वक्त पर दे दिए था.

हरीश साल्वे ने लगाए आरोप

Harish Salve


साल्वे ने रायगढ़ पुलिस पर आरोप लगाया कि उन्होंने सुसाइड केस दोबारा खोलने पर सही तरह से कानूनी प्रक्रिया का पालन नहीं किया.

हरीश साल्वे ने कहा कि महाराष्ट्र पुलिस ने दुर्भावना के अंतर्गत अर्नब गोस्वामी और रिपब्लिक टीवी के खिलाफ पिछले कुछ दिनों में कई मुकदमे दर्ज किए. उन्होंने यह दावा भी किया कि महाराष्ट्र पुलिस ने महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख के कहने पर अन्वय नाइक सुसाइड केस को दोबारा खोला गया है.

महाराष्ट्र सरकार का विरोध


सीनियर वकील कपिल सिब्बल और अमित देसाई ने सुप्रीम कोर्ट में महाराष्ट्र सरकार की तरफ से जिरह की.
कपिल सिब्बल का जमानत पर विरोध करते हुए कहा कि – “जब इस मामले पर पहले से लोअर कोर्ट में सुनवाई चल ही रही है. तो सुप्रीम कोर्ट को अभी आरोपी को जमानत नहीं देनी चाहिए थी.”
अमित देसाई ने भी जमानत पर विरोध करते हुए कहा कि – “लोअर कोर्ट में इस मामले पर कल लोअर कोर्ट से फैसला आ सकता है. उनका मानना है कि इस मामले में की जांच कर रही पुलिस को कई सबूत हासिल हुए हैं और उसे कोर्ट में पेश करने की अनुमति मिलनी चाहिए. 

आरोप – 5.4 करोड़ बकाया नहीं दिया


सुसाइड केस में अर्बन गोस्वामी के साथ फिरोज मोहम्मद शेख और नितेश सारदा दोनों को भी इसी आरोप में पुलिस ने गिरफ्तार किया है. अर्नब गोस्वामी, फिरोज शेख और नितेश सारदा द्वारा कथित रूप से सुसाइड केस की बची राशि न देने पर सीआईडी द्वारा पुनः जांच करने के आदेश जारी किए गए. अन्वय नाइक द्वारा लिखे गए सुसाइड नोट में – “आत्महत्या करने का कारण,आरोपियों व्दारा 5.4 करोड़ रुपये नहीं मिलने पर उन्हेंने यह कदम उठाया.”

Avatar

Written by GARIMA

Garima has knowledge about SEO and experience in content writing. Garima is passionate about content writing, video editing, website designing, and learning new skills. Content writing has always been there in her potential. Reach her at garima@liveakhbar.in

Leave a Reply

Avatar

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Dhanteras 2020

धनतेरस 2020: जानें शुभ मुहूर्त और पूजन विधि; क्या है सोना खरीदने का मंगल समय?

dhanteras 2020

धनतेरस के अवसर पर सजे बाजार, टूटा बाजार का सन्नाटा