Connect with us

Hi, what are you looking for?

Release Dates

शिवराज सिंह चौहान ने चीनी पटाखों की बिक्री पर लगाया प्रतिबंध, ऐसी होगी मध्यप्रदेश की दिवाली

madhya pradesh bans chinese fire crackers

Sweety Jain- Liveakhbar Desk

मध्य प्रदेश में चीनी पटाखों की बिक्री पर रोक लगा दिया गया है। अधिकारियों ने बताया कि 4 नवंबर , बुधवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान चर्चा में इस बात की घोषणा की | उस के बाद केंद्र के आदेश पर सभी गृह विभाग ने कलेक्टरों को इस संबंध में निर्देश जारी कर दिए | साथ ही, 125 डेसिबल से ज्यादा ध्वनि के उपयोग पर भी पाबंदी लगाई गई है। आदेश में कलेक्टरों को कहा गया है कि वह पटाखा बाजार पहुंचकर इस कि जांच कराएं। अगर कोई चीनी पटाखे बेचते मिले, तो उसका लाइसेंस रद्द करने को कहा |

पटाखा बाजार दिवाली में पूरी तरह से सज कर तैयार है। इस बीच मध्यप्रदेश सरकार ने पटाखों की बिक्री पर प्रतिबंध लगाने के आदेश जारी कर दिया , लेकिन यदि कोई भी व्यापारी चीनी और विदेशी पटाखे बेचते हुए पाया गया, तत्काल लाइसेंस निरस्त के साथ ,उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। आदेश के अनुसार किसी भी दुकान पर सिर्फ मेड इन इंडिया पटाखे और आतिशबाजी ही बेची जाएगी।

कलेक्टर का आदेश –

कोरोना महामारी के चलते कलेक्टर अविनाश लवानिया ने दुकानदारों को निर्देश दिए है कि कोविड-19 की गाइडलाइन का पालन करना और बिना मास्क वाले व्यक्तियों को पटाखा न बेचने को कहा है। अस्थाई पटाखा दुकानों को इस प्रकार से लगवाया जाए कि संक्रमण न हो। कलेक्टर ने कहा है कि जिले में भी विदेशी और चीनी पटाखों के विक्रय पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगाया जाएगा। इससे संबंधित सूचना सभी पटाखा विक्रेताओं को दे दी गई है।

आत्मनिर्भरता पर बल –

अक्सर, दिवाली के वक्त बाजार में ज्यादातर चीनी पटाखों की भरमार रहती है। यह पटाखे ध्वनि और वायु प्रदूषण कर पर्यावरण को नुकसान पहुंचाते हैं। परन्तु अब जब देश में आत्मनिर्भर होने और स्थानीय उत्पाद को बढ़ावा देने पर बल दिया जा रहा हैं, ऐसे में भारत सरकार के वाणिज्य मंत्रालय ने राज्य सरकारों को विदेशी पटाखों पर प्रतिबंध लगाने को लेकर निर्देश जारी करने को बोला थे। इसे लेकर प्रदेश केे गृह मंत्रालय ने सख्त रुख अपना लिया और गृह सचिव ने सभी जिला कलेक्टर और पुलिस अधीक्षकों को निर्देश भी जारी कर दिया है।

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री ने प्रदेश की लोगों से अपील की है कि आत्मनिर्भर भारत अभियान के अंतर्गत “लोकल को वोकल” बनाने के लिए स्थानीय उत्पादों को खरीदें | दीपावली में मिट्टी दीए खरीदें , जिससे कुम्हारों को रोजगार मिलेगा |

आदेश आने के बाद चार दिन तक गृह विभाग ने इसे दबाकर रखा –

ऐसा बताया जा रहा है कि गृह विभाग यह आदेश चार दिन पहले ही निकला था, लेकिन इसे उपचुनाव को देखते हुए जारी नहीं किया गया था। अब मतदान होने के बाद इसे जारी कर दिया गया। इसके पहले राजस्थान सरकार भी पटाखों पर प्रतिबंध लगा चुकी है, जिसके खिलाफ पटाखा एसोसिएशन और व्यापारी हाईकोर्ट चले जा चुके है और इस मामले को लेकर सुनवाई होनी है।

वहीं, कोरोना काल में पटाखों पर बैन लगाने के लिए इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को पत्र लिखकर इसकी मांग करते हुए कहा है की , पटाखों के कारण प्रदूषण बढ़ेगा और कोरोना के मरीजों के लिए यह खतर नाक सबित हो सकता है, इसलिए पटाखों की बिक्री पर रोक लगाएं जाए |

Advertisement. Scroll to continue reading.

Avatar
Written By

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You May Also Like

Release Dates

‘टाइगर स्टेट’ से जाना जाने वाला राज्य मध्य प्रदेश इस वर्ष 26 जानवरों को खोया है (Madhya Pradesh loses 26 tigers)। इसकी पुष्टि राष्ट्रीय...

Release Dates

मध्यप्रदेश में लगतार कोरोना के मामलें बढ़ रहे है ऐसे में प्रदेश सरकार नें प्रदेश के 5 शहरों में नाइट कर्फ्यू लगेगा की घेषणा...

Release Dates

देश के प्रमुख बाजारों में कारोबारियों ने इस दिवाली लगभग 72,000 करोड़ रुपये की बिक्री दर्ज की। व्यापारियों ने बताया कि, इस साल की...