क्यों सोशल मीडिया महिलाओं के लिए असुरक्षित प्लेटफॉर्म तब्दील हो रहा है?

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

LIVE AKHBAR DESK- Rahul Raj


सोशल मीडिया आज एक ऐसा प्लेटफॉर्म बन चुका है जहां हजारों लोग घंटो बीताते है।अपने सुख दुख ऐशो आराम रोजमर्रा की जिंदगी तक एक दूसरे से साझा करते है।परन्तु आज कल इसी आधुनकि जग के वरदान ने महिला एवम् उनके अधिकारों को दबाना शुरू कर दिया है।जिसके परिणाम स्वरूप कई महिला सोशल मीडिया छोड़ने पर मजबूर हो गई है।आयदिन महिलाओं के खिलाफ अभद्र कॉमेंट्स एवम् पोस्ट्स इस सोशल मीडिया की दुनिया में महिलाओं के अस्तित्व के साथ खिलवाड़ कर रहे है जिससे परेशान होकर कई महिलाओं ने आत्महत्या जैसे कदम भी उठाए है।

क्या कहते है तथ्य-

71 देशों में काम करने वाली संस्था प्लान इंटरनेशनल के सर्वे में यह बात सामने आई है कि 39 प्रतिशत महिलाएं बॉडी शामिंग एवम् यौन हिंसा के कारण सोशल मीडिया छोड़ने पर मजबूर हुई।संस्था ने यह सर्वे भारत अमेरिका ब्राज़ील समेत 22 देशों में करवाया जिसमें 15-25 साल की लड़कियां शामिल थी और उनमें से 58 प्रतिशत ने यह माना की वे कभी ना कभी ऑनलाइन दुष्कर्म का शिकार हुई।22 प्रतिशत लड़कियों का तो यह भी कहना था कि उन्हें शारीरिक हिंसा तक की धमकी मिलती है।41 प्रतिशत ने कहा कि उन्हें डर एवम् शर्मिंदगी के कारण सोशल मीडिया से दूरी बनानी पड़ी।इससे यह भी पता चला की जातीय अल्पसंख्यक पर हमला नस्लीय दुर्व्यवहार और एलजीबीटी समुदाय से जुड़ी लड़कियों के दुष्कर्म के मामले बहुत ज़्यादा ही थे।अध्ययन में यह भी पाया गया कि ऑनलाइन दुष्कर्म के कारण हर पांच में से एक लड़की रोज सोशल मीडिया इसी कारण से छोड़ रही है और हर 10 में से 8 लड़कियों ने खुद को सोशल मीडिया पर जाहिर करने के तरीके में बदलाव लाया और निरंतर समाज की सोच एवम् रोक टोक के अनुसार खुद को ढाल लिया।

आज़ादी के लिए ज़हर-
प्लान इंटरनेशनल के सीईओ एनी अल्ब्बरेकस्टन ने कहा – यह हमले शारीरिक नहीं होते लेकिन यह लड़कियों के अभिव्यक्ति की आज़ादी के लिए खतरा पैदा करते है और इसे रोकने के लिए फेसबुक एवम् इंस्टाग्राम रिपोर्ट करने का एवम् निगरानी रखने का पूर्ण अधिकार देते है और परेशान एवम् अशुद्ध सामग्री पर कार्रवाई भी की जाती है।हांलाकि,अध्ययन में सोशल मीडिया के दुरूपयोग को रोकने की बात कुछ ज़्यादा प्रभावित नहीं करती है।


Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *