स्पेशल स्टोरी :- मिर्ज़ापुर के ‘होमलैंडर’ मुन्ना त्रिपाठी !

मुन्ना भैया विदेशी सुपरहीरो होमलैंडर निकले। कैसे?? पढ़िए

Abhinav Aazad

फोटो देखकर आप भी अचंभे में होंगे कहाँ मुन्ना भैया मिर्ज़ापुर के उनको सीधे परदेसी सुपरहीरो होमलैंडर(द् बॉयज) से जोड़ दिया है। दरअसल, यहाँ पर हम उनकी शक्तियों या उनके कद को लेकर नहीं बल्कि उन्हें उनके इमोशन्स के तराज़ू में तौलेंगे। मिर्ज़ापुर सीजन 2 को लेकर यहाँ कोई भी स्पॉइलर नहीं है आप बेझिझक पढ़ सकते हैं।

Mirzapur2 webseries mirzapur munna tripathi webseries review movie review entertainment bollywood amazonprime borat2
मिर्ज़ापुर के मुन्ना त्रिपाठी


मुन्ना भैया जिनकी माँ तो है नहीं, मतलब सगी नहीं, जो है उनसे प्यार तो मिल रहा है पर वो माँ वाला प्यार नहीं है। पिता उन्हें अभी ज़िम्मेदार नहीं समझ रहे हैं। उनको चाहिए एकछत्र राज लेकिन कोई कल का लौंडा जो कहीं से उनके बराबर नहीं है उन्हें टक्कर देने लगता है। जब घर से प्यार की कमी हो तो इंसान बाहर प्यार ढूंढने लगता है, लेकिन उनका इश्किया कोना खाली ही रहा, बेचारे हमेशा ही उदास रहे। स्वीटी लव था उनका लेकिन वो भाव नहीं दी और उसे कोई और उड़ा ले गया, जो एक सच्चा दोस्त था उसको कालीन भैया उन्हीं के हाथों से मरवा दिए। बड़ा नाइंसाफी है!!

बस.. मुन्ना भैया को तलाश है ज़िन्दगी में ऐसे इंसान की जो उन्हें सुन सके, उनकी बातों पर हाँ में हाँ मिला सके, उन्हें मिर्ज़ापुर की गद्दी का असली मालिक माने बस और क्या चाहिए??? अब वो तलाश पूरी होती है या नहीं ये जानने के लिये मिर्ज़ापुर 2 देख डालिये।

The boys the boys season 2 superhero mirzapur webseries entertainment hollywood amazonprime
द बॉयज के सुपरहीरो ‘होमलैंडर’

होमलैंडर, बचपन से ही अकेला इस मतलबी दुनिया में, और इस सत्य से कोई मुँह नहीं फेर सकता कि जो जिस परिस्थिति से गुज़रेगा उसका असर उसके व्यक्तित्व पर झलकेगा और जब बच्चा अकेले पल बढ़ रहा था तो उसकी उस प्यार की तलाश कभी पूरी न हो सकी जो उसे चाहिए थी। घर वाला कोई था नहीं, प्यार करता कौन?? शुरू में एक गर्लफ्रेंड थी ‘मेव’ लेकिन उसके साथ ब्रेकअप हो गया, और बाद में पता चला वो लेस्बियन भी है। फिर अपनी कंपनी के डायरेक्टर से प्यार हुआ तो पता चला कि वह सिर्फ अपने मतलब के लिये ही सब नाटक कर रही है, वो बात अलग है कि उसको निपटा दिए होमलैंडर जी (आखिर ठुकरा के मेरा प्यार, मेरा इंतेक़ाम देखेगी नाम की भी कोई चीज़ होती है भाई)। फिर एक बार और जब प्यार करने की कोशिश की तो उसे किसी और ने मार दिया…..इंसान दो पल को खुश हो तो कैसे??


इन्होंने एक लड़की का रेप भी किया जिससे एक बच्चा भी था, उस बच्चे से इनको 8 साल दूर रखा गया, इस खबर से बेखबर रखा गया यहाँ तक कि उनको कहा गया कि दोनों माँ-बच्चे की मौत हो गयी। और अपनी टीम में भी कोई यूनिटी नहीं….कोई इसके पीछे पड़ा कोई उसके पीछे। बस.. ये रुकना चाहते थे, ठहरना चाहते थे अपने बच्चे के साथ कुछ पल गुज़ारना चाहते थे, चाहते थे कि उनका बच्चा वो सब महसूस न करे जो उन्होंने अपने बचपन में किया।


खैर, आगे क्या हुआ क्या नहीं वो अलग विषय है, बात मुद्दे की यह है कि हर बार इंसान गलत नहीं होते, कभी परिस्थितियां भी गलत होती हैं।

एंटरटेनमेंट के शौकीनों को ये कैरक्टर कंपेरिजन कैसा लगा?? कमेंट कर के बता दीजिए और इंस्टाग्राम, ट्विटर, फेसबुक पर Filmybaap को फॉलो कर लीजिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *