76 साल बाद आज फिर आसमान में निकलेगा नीला चांद, भारत में यह है समय

blue moon 2020 india

Tanisha Jain- Liveakhbar Desk

31 अक्टूबर या नहीं हेलो विंग के दिन आसमान में पहली बार ब्लू मून नजर आएगा । इस खास पल के हम सभी साक्षी बनने वाले हैं कोरोनावायरस ने 2020 में पूरी दुनिया को बुरा दौर दिखाया है , लेकिन आज होने जा रही है खगोलीय घटना आपको एक सुखद अनुभव दे सकती है तो चलिए जानते हैं कि ब्लू मून क्या है ‌।

यह एक असामान्य घटना है जो हर दो-तीन साल में देखने को मिलती है साल 2020 में दिखने वाले इस नीले चंद्रमा को इसके बाद साल 2039 में देखने को मिलेगा यानी कि अगली बार इसे 19 साल बाद देखा जाएगा। ब्लू मून या नीला चांद कहलाने वाला यह दुर्लभ नजारा लोगों के लिए काफी खास होने वाला है।

आज की रात काफी रहस्यमई और रोमांचक होने वाली है। फुल मून साल में 12 बार आकाश में नजर आता है यानी कि हर माह में एक बार परंतु खास बात यह है कि आज का चांद नीला रंग का होने वाला है हर माह में नजर आने वाले चंद नीले रंग के नहीं होते ।

नासा की अभिव्यक्ति नीले चांद को लेकर

नासा की ओर से मिली जानकारी के मुताबिक अधिकांश ब्लूमून पीले और सफेद रंग के ही नजर आते हैं लेकिन आज दिखाई देने वाला है या चंद्रमा सभी से हटके होगा जो अभी तक देखे गए हैं।

कैलेंडर के महीने में बदलाव होने पर दूसरी पूर्णिमा के चंद्रमा के भौतिक गुणों में कोई बदलाव नहीं पाया जाता इसलिए इसका रंग एक ही होता है , नासा के मुताबिक से कभी-कभी नीला चांद देखना सामान्य बात है इसके पीछे एक अलग‌ वजह है यह अक्सर वायुमंडल प्रस्तुतियों के चलते नीला नजर आता है। इसमें कैलेंडर का समय बदलने की वजह शामिल नहीं है।

blue moon 2020 india

यह ब्लू मून कैलेंडर के आधार पर होगा एक ओर 31 अक्टूबर 2020 को पूर्णिमा होगी यानी 1 दिन पूरा चांद दिखाई देगा बता दें कि अक्टूबर के महीने में दो पूर्ण चंद्रमा निर्धारित बताए गए हैं लेकिन 31 अक्टूबर में जो चंद्रमा दिखने वाला है उसका महत्व काफी अलग बताया जा रहा है ।

खगोल वैज्ञानिकों द्वारा अभिव्यक्ति

खगोल वैज्ञानिकों द्वारा बताया गया कि अगर 31 अक्टूबर को रात को आसमान साफ‌ रहा तो कोई भी टेलीस्कोप की मदद से इस नीले चंद्रमा को देख सकता है।इस घटना को देखने के लिए खगोल वैज्ञानिक काफी ज्यादा उत्सुक है और काफी वक्त से इसका इंतजार भी कर रहे हैं।

blue moon 2020 india

बताया जाता है कि चंद्रमास की अवधि 29.531 दिनो , यानी 29 दिन ,12 घंटे और 4 मिनट, 38 सेकेंड की होती है।इस वजह से 1 महीने में दो बार पूर्णिमा होने के लिए पहली पूर्णिमा इस महीने की पहली या दूसरी तारीख को होनी चाहिए या 31 अक्टूबर को होने जा रही है इसलिए बेहद खास मानी जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *