Connect with us

Hi, what are you looking for?

News

IAF Day 2020: इतिहास,महत्व,रोचक तथ्य,गीता और वायु सेना का सम्बंध

Indian air force day 2020

Garima- Liveakhbar Desk

भारतीय वायु सेना के लिए 
आज के दिन का महत्व ही कुछ और है, ऐसा इसलिए क्योंकि कल सूरज उगने के साथ 88वां वायु सेना स्थापना दिवस का आगाज होगा। गाजियाबाद हिंडन एयर बेस पर हर साल की तरह परेड की तैयारियां की गई हैं।

इंडियन एयर फोर्स की कहानी

88 वर्ष पहले 8 अक्टूबर 1932 को भारतीय वायु सेना की स्थापना हुई थी। भारतीय सशस्त्र सेना का अभिन्न अंग है हमारा एयर फोर्स;जो वायु युद्ध, सुरक्षा और चौकसी के लिए अपना कर्तव्य निभाता है। स्वतंत्रता से पहले इसे रॉयल इंडियन एयर फोर्स के नाम से जाना जाता था जो बाद में केवल इंडियन फोर्स के नाम से भारत की सेवा में तत्पर है। द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान भारतीय सेना ने एक अहम भूमिका निभाई थी।

यह होंगे शामिल

Indian air force day 2020
Indian air force day 2020

इस बार 88 वीं भारतीय वायु सेना स्थापना दिवस पर दी गई जानकारियों के अनुसार 19 फाइटर जेट, 7 मालवाहक एयरक्राफ्ट और 19 हेलीकॉप्टर यानी कुल 56 एयरक्राफ्ट परेड में शामिल होंगे। सुखोई और तेजस भी अपनी शक्ति की मिसाल कायम करेंगे। और परेड के दौरान रफाल लड़ाकू विमान जगुआर के साथ विजय की उड़ान भरेंगे।

होगी रफाल की उड़ान

इसी साल भारतीय वायुसेना में शामिल हुआ रफाल अपनी उड़ान इस खास मौके पर उड़ान भरेगा। इसने लड़ाकू विमान का स्वागत हो चुका है लेकिन कल स्थापना दिवस पर या एक अहम उड़ान के दौरान हैरतअंगेज़ करतब दिखायेगा और अपनी सवारी का प्रदर्शन करेगा। रफाल 24500 किलो वजन उठाने में सक्षम होने के साथ-साथ 2130 किलोमीटर प्रति घंटे की स्पीड से उड़ सकता है।

इंडियन एयरफोर्स की खास बातें

• 170000 जवान और 1350 लड़ाकू विमान के साथ भारतीय वायु सेना विश्व की चौथी बड़ी ताकत है। अमेरिका, चीन और रूस के बाद भारत को यह स्थान प्राप्त है। हम सब के लिए गौरव की बात है।

• भारत के हर कोने में स्थित 60 से ज्यादा एयरबेस हैं।

• सातवें स्थान का दर्जा लिए भारतीय वायु सेना ने अपनी ताकत और शक्ति की मिसाल कायम की है। दुनिया भर में अपनी काबिलियत की छाप छोड़ी है।

Indian air force day 2020
Indian air force day 2020

• सियाचिन ग्लेशियर पर स्थित एयर बेस जमीन से 22000 फीट की ऊंचाई पर मौजूद है और साथ ही सबसे ऊंची एयर बेस का खिताब रखता है।

• सबसे बड़ा एयर कमांड, वायु सेना का वेस्टर्न कमांड है जहां एयरबेस की संख्या 16 है।

• विदेशी जमीन पर एयरफोर्स स्टेशन के बाद करें तो तजाकिस्तान के पास फर्कहोर एयर बेस मौजूद है।

गीता से अपनाया आदर्श वाक्य:

भारत की सभी सेनाओं का अपना एक आदर्श वाक्य है। ‘नभ: सदृशं दीप्तम्’- यह वाक्य गीता के ग्यारहवें अध्याय से लिया गया है और इसी आदर्श वाक्य के साथ भारतीय वायुसेना अपने कार्य को अंजाम देती है।

Advertisement. Scroll to continue reading.
Avatar
Written By

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You May Also Like

Release Dates

भारतीय वायु सेना (IAF) के आक्रामक शस्त्रागार को बढ़ावा देने वाले एक कदम में, भारतीय सशस्त्र बलों की हवाई शाखा को बुधवार शाम तक तीन और...

Editors choice

पांच राफेल मल्टीरोल फाइटर जेट के पहले बैच को औपचारिक रूप से हरियाणा के अंबाला हवाई अड्डे पर सुबह 10 बजे भारतीय वायु सेना...

Editors choice

29 जुलाई को आगमन पर अंबाला एयरबेस में भारतीय वायु सेना (IAF) के नंबर 17 ‘गोल्डन एरो’ स्क्वाड्रन में शामिल होने के लिए पांच...