बालिका वधु के डायरेक्टर हुए दिवालिया , बेंच रहे है ठेले पर सब्ज़ी

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

कोरोना काल मे भारत ही नही पूरी दुनिया की 40% आबादी बेरोज़गारी के आलम से गुज़र रही है। कभी करोड़ो में खेलने वाले भी इस मायाजाल से नही बच पाए है, ऐसा ही कुछ हुआ है बालिका वधु के डायरेक्टर रामवृक्ष के साथ।
कभी इनके आगे पीछे टीवी के सितारों की रैली लगी रहती थी , इस आशा में कई काश वे अपने सीरियल में काम दे दें और बेरोज़गारी के ठप्पे से छुटकारा मिले। लेकिन आज किस्मत का पासा यूं पलटा की करोड़पति डायरेक्टर रामवृक्ष अब सड़क पर गमछा लपेटे सब्ज़ी बेंच रहे है ताकि अपना और अपने परिवार का पेट भर सके।

Balika Vadhu Director Rambriksh Gaur is selling vegetables in Uttar Pradesh

रामवृक्ष वैसे तो मुम्बई में ही रहते है लेकिन होली के चलते अपने निवास स्थान आजमगढ़ अपने बेटे के साथ चके आए थे। कुछ दिन बाद लॉक डाउन लग गया और फिर किये दो महीने बाद पैसे की कमी होने के कारण 11 वी कक्षा में पढ़ने वाले अपने बेटे के साथ सब्ज़ी बेचना शुरू कर दिया । 18 वर्ष पहले भी रामवृक्ष का सब्ज़ी का ही कारोबार था , लेकिन मुम्बई ने जाने बाद किस्मत पालते देर नही लगी ।

शुरू में मुम्बई के फ़िल्म इंडस्ट्री में लाइट मैन का काम किया , फिर धीरे धीरे जैसे समझ आती गई तो कदम आगे बढ़ते गए। चंद साल बाद निर्देशक का काम मिला और रामवृष ने कई ऐसे टीवी सीरियल निर्देशित किए जो आज। ही लोग याद रखते है। इनमें सबसे प्रसिद्ध है बालिका वधु और जूनियर जी , कुछ तो लोग कहेंगे , हमारी देवरानी समेत कई और टीवी सीरियल को निर्देशित किया ।

गली-गली घूमकर ठेले पर सब्जियां बेचने को मजबूर 'बालिका वधू' का ये डायरेक्टर,  ऐसी हो गई परिवार की हालत | tv show balika vadhu directed Ram Briksh Gaur  selling vegetable because of

वक्त का पासा ऐसा पलटा जहाँ से शुरुआत की थी वही वापस पहुंच गए , रामवृक्ष का कहना है कि भारतीय टीवी काफी अनिश्चित है । उन्होंने बताया की कई ऐसे टीवी सीरियल है जो लॉक डाउन के पहले टी आर पी के मामले में सबसे ऊपर थे और जब लॉक डाउन के बाद वापस शुरू हुए तो टी आर पी औंधे मुंह ज़मीन पर गिर पड़ी और मजबूरन कई टी वी सीरियल्स को बंद करना पड़ा ।


Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *