Krishna Janmashtami 2020: शुभ मुहूर्त, पूजा की विधि, किस राज्य में किस दिन

Krishna Janmashtami 2020
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Krishna Janmashtami 2020: भगवान कृष्ण का जन्म, जन्माष्टमी, पूरे भारत में धूमधाम के साथ मनाया जाता है। भक्त आमतौर पर उपवास का पालन करते हैं, स्वामी की प्रशंसा में भक्ति गीत गाते हैं, दही हांडी समारोहों में भाग लेते हैं, मंदिरों में समारोह आयोजित करते हैं जहां प्रत्येक वर्ष भगवान कृष्ण का स्वागत किया जाता है।

इस हिंदू त्योहार का सबसे बड़ा उत्सव क्रमशः मथुरा और वृंदावन में होता है, जहाँ माना जाता है कि भगवान कृष्ण का जन्म हुआ था। चूंकि वह आधी रात को पैदा हुए थे, इसलिए भक्त एक उपवास का पालन करते हैं और उसके लिए भक्ति गीत गाते हैं जैसे घड़ी में बारह बजते है। अनुष्ठान के एक भाग के रूप में, भगवान कृष्ण की मूर्तियों को पूजा के लिए धोया जाता है। भक्त अपने उपवास को तोड़ते हैं और भोजन और मिठाई बांटते हैं।

पूजा की विधि

कृष्ण भगवान की पूजा करने से पहले आप स्नान ज़रूर कर ले। इस दिन भगवान श्रीकृष्ण के बाल स्वरूप की पूजा की जाती है। पूजा की शुरुवात में भगवान को गंगाजल और पंचामृत से अच्छे से स्नान कराएं। स्नान के बाद उन्हें कोरे वस्त्र पहनाए। वस्त्र के बाद उन्हें भोग लगाएं और उसके बाद कृष्ण की आरती गाये। कृष्ण भगवान का अच्छे से श्रृंगार करे।

किस राज्य में किस दिन

जगन्नाथ पुरी, बनारस और उज्जैन जैसे स्थानों में कृष्ण जन्माष्टमी आज यानी 11 अगस्त की मनाई जाएगी। ऐसा इसलिए है क्योंकि 11 अगस्त से अष्ठमी तिथि आरम्भ होगी।

मथुरा और द्वारका जैसे क्षेत्रों में 12 अगस्त को जन्माष्ठमी मनाई जाएगी। कई स्थानों पर 12 अगस्त को यह मनाई जाएगी।

तारीख और समय

इस साल 43 मिनिट का पूजा का मुहूर्त है।

इस वर्ष जन्माष्टमी 11 अगस्त और 12 अगस्त को है। कई लोग इसे आज मना रहे है और कई कल मनाएंगे। प्रार्थना के लिए शुभ समय दोपहर 12:05 बजे से शुरू होकर 12:47 बजे (12 अगस्त को) तक है। दही हांडी समारोह (आमतौर पर अंतिम दोपहर या शाम के शुरुआती घंटों में) 12 अगस्त को होगा।


Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *