Connect with us

Hi, what are you looking for?

Release Dates

Atmanirbhar Bharat : आयात वस्तुओं में कटौती ,स्वदेशीकरण को बढ़ावा

आत्मनिर्भर भारत के तहत रक्षा मंत्रालय ने रक्षा उत्पादन के स्वदेशीकरण को बढ़ावा देने के लिए 101 आयात वस्तुओं पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ट्विटर पर निर्णय की घोषणा करते हुए कहा कि रक्षा मंत्रालय ने 101 वस्तुओं की एक सूची तैयार की है, जिसके लिए आयात के बारे में एक संकेत होगा जो उनके खिलाफ संकेत दिए गए समयरेखा से परे है।

राजनाथ सिंह ने कहा कि कुछ रक्षा आयातों पर प्रतिबंध के बाद, यह अनुमान है कि घरेलू उद्योग पर अगले 6 से 7 वर्षों के भीतर लगभग 4 लाख करोड़ रुपये के अनुबंध किए जाएंगे। राजनाथ सिंह ने कहा कि अप्रैल 2015 से अगस्त 2020 के बीच ऐसी वस्तुओं की लगभग 260 योजनाओं को 3.5 लाख करोड़ रुपये की अनुमानित लागत पर तीनो सेवाओं द्वारा अनुबंधित किया गया था।भारत के रक्षा उदयिग को बढ़ावा देने के लिए 52000 करोड़ रुओए का बजट रखा गया है इस साल।

आर्टिलरी गन, लाइट कॉम्बैट हेलिकॉप्टर, असॉल्ट राइफलें, कोरवेट, रडार, व्हीकल आर्मर्ड फाइटिंग व्हीकल्स (एएफवी), ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट, और अन्य हाई टेक्नोलॉजी हथियार 101 रक्षा वस्तुओं में से हैं जिन्हें अब से आयात नहीं किया जाएगा। इन सभी को अब स्वदेश निर्मित किया जाएगा, राजनाथ सिंह ने रविवार को घोषणा की।

आयात पर एम्बार्गो को 2020 से 2024 के बीच लागू करने की योजना है। समय के साथ, राजनाथ सिंह ने कहा, आयात एम्बारगो के लिए इस तरह के और उपकरण की पहचान की जाएगी।

राजनाथ सिंह ने एक ट्वीट में कहा, “रक्षा मंत्रालय ने 101 वस्तुओं की एक सूची तैयार की है, जिसके लिए उनके द्वारा इंगित समयरेखा से परे आयात पर एक प्रतिबंध होगा। यह रक्षा में आत्मनिर्भरता की दिशा में एक बड़ा कदम है।”

राजनाथ सिंह ने कहा, “101 embroidered आइटमों की लिस्ट में न केवल सरल भाग शामिल हैं, बल्कि तोपों की बंदूकें, असॉल्ट राइफलें, कोरवेट, सोनार सिस्टम, ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट, एलसीएच, राडार इत्यादि जैसे कुछ उच्च हथियार सिस्टम भी शामिल हैं। “

राजनाथ सिंह ने ट्वीट किया, “इस सूची में दिसंबर 2021 की सांकेतिक आयात एम्बार्गो तारीख के साथ पहिएदार आर्मर्ड फाइटिंग व्हीकल्स (एएफवी) भी शामिल हैं, जिसमें सेना को लगभग 200 करोड़ रुपये की लागत से अनुबंधित करने की उम्मीद है। #AtmanbharBharat

रक्षा मंत्री ने कहा कि यह निर्णय से भारत की रक्षा उद्योगों की डिज़ाइन और विकास क्षमताओं का इस्तेमाल करके DRDO द्वारा सशस्त्र की ज़रूरतों को पूरा करके आयात की मात्र को कम करके आत्मनिर्भर भारत को बढ़ावा देना मुख्य उद्देश्य है।

Advertisement. Scroll to continue reading.

राजनाथ सिंह ने बतलाया कि भारत के अंदर विभिन्न गोला-बारूद और उपकरणों के निर्माण के लिए भारत के उद्योगों की वर्तमान और आने वाले भविष्य की क्षमताओं का पूरी तरह से क्षमता का अंदाज़ा लगाकर सभी हितधारकों के साथ कई दौर के टेस्टिंग के बाद रक्षा मंत्रालय द्वारा 101 आयात वस्तुओं की लिस्ट पेश की गई थी।

राजनाथ सिंह ने कहा कि हमारा मुख्य उद्देश्य भारत की रक्षा उद्योग को सशस्त्र बलों की प्रत्याशित ज़रूरतों से अवगत कराना है ताकि वे स्वदेशीकरण के मुख्य लक्ष्य को महसूस करने के लिए बेहतर तैयार हों।

रक्षा मंत्री ने कहा, “आयात के लिए इस तरह के अन्य उपकरणों को सभी हितधारकों के परामर्श से डीएमए द्वारा उत्तरोत्तर पहचाना जाएगा। इसका एक उचित नोट डीएपी में भी बनाया जाएगा ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि नकारात्मक सूची में किसी भी वस्तु को आयात करने के लिए संसाधित नहीं किया गया है।

Avatar
Written By

Damini has four years of experience in the publishing industry, with expertise in digital media strategy and search engine optimization. Passionate about researching. Feel free to contact her at Damini@liveakhbar.in

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You May Also Like

Anime

इस बार हुए विधानसभा चुनाव में बिहार के सीएम एक बार फिर से नीतीश कुमार बनेंगे। एनडीए के साथ गठबंधन कर उनकी पार्टी जेडीयू...

Release Dates

Sweety Jain- Liveakhbar Desk मध्य प्रदेश में चीनी पटाखों की बिक्री पर रोक लगा दिया गया है। अधिकारियों ने बताया कि 4 नवंबर ,...

Release Dates

Garima- Liveakhbar Desk भारत की जनता को मंगलवार शाम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संबोधित किया जहां उन्होंने कोरोना वायरस, देश में लगा लॉकडाउन, कोरोना...