Nag Panchami 2020: सिर्फ नागपंचमी के दिन दर्शन हेतु खोला जाता है यह मंदिर

Nag Panchami 2020

Nag Panchami 2020: आज नाग पंचमी का अवसर है। नाग पंचमी सावन के महीने के पांचवे सोमवार के रूप में मनाया जाता है। इस दिन नाग देव की पूजा होती है। कई सालों से लोग इस दिन सांपो की पूजा करते है और नाग देवता को प्रसन्न करते है। इन दिन सर्पों को दूध पिला कर उनकी पूजा की जाती है। इस दिन वासुकी नाग, तक्षक नाग, शेषनाग आदि की पूजा की जाती है। कई लोग इस दिन घर के बाहार नाग देवता की रंगोली भी बनाते है। एक ऐसा मंदिर भी है जिसे सिर्फ नागपंचमी के दिन खोला जाता है। तो आइये जाने इस अनोखे मंदिर के बारे में –

माहाकल की नगरी उज्जैन में स्तिथ है यह मंदिर

एक ऐसा मंदिर जो सिर्फ नागपंचमी के दिन दर्शन हेतु खोला जाता है वह मंदिर माहाकल की नगरी उज्जैन में स्तिथ है। मंदिर का नाम भी नाग के नाम पर रखा गया है –“नागचंद्रेश्वर”, आपको बता दे की यह मंदिर प्रसिद्ध मंदिर महाकाल मंदिर के तीसरे मंज़िल पर स्तिथ है।

यह भी पढ़ें-https://www.liveakhbar.in/2020/07/nag-panchami-2020.html, पूजा, विधि, समय, ऐसे करे नाग देव को प्रसन्न (Nag Panchami 2020)

नागराज तक्षक का था घर

Nag Panchami 2020

पारम्परिक कहानियो की बात करे तो बताया जाता है की भगवान नागराज तक्षक खुद यहां रहते थे। इसकी सबसे ख़ास बात यह है की इस मंदिर में 11वी शताब्दी की प्रतिमा बैठती है। प्रतिमा में- फन फैलाये नाग देवता के आसान पर शिव और पार्वती विराजमान है।

उज्जैन के अलावा ऐसी प्रतिमा दुनिया में आपको कहीं देखने नहीं मिलेगी। इस प्रतिमा को नेपाल से लाया गया था।

तक्षक नाग का विवरण

आपको बता दे की तक्षक नाग भगवान का ज़िक्र महाभारत में देखने को मिलता है। कहा जाता है की तक्षक नाग पाताल में निवास करने वालो 8 नागो में से एक है। इनकी उत्पत्ति माता कद्रू के गर्भ से हुई थी। इनके पिता कश्यप ऋषि थे। तक्षक ‘कोशवश’ वर्ग का था। यह काद्रवेय नाग है। माना जाता है कि तक्षक  का राज तक्षशिला में था। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *