27 देशों ने भारत के साथ मिलकर की चीन के खिलाफ UNHRC में याचिका दायर

 

भारत द्वारा चीन के अहंकार को तोड़ने के लिए 59 चीनी मोबाइल ऐप पर प्रतिबंध लगाने के बाद दुनिया के 27 देशों ने उसके खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। इन 27 देशों ने UNHRC में चीन के खिलाफ शिकायत याचिका पेश की है। याचिका में मनमाने ढंग से नजरबंदी, व्यापक निगरानी, प्रतिबंध, उइगरों पर अत्याचार और चीन में अन्य अल्पसंख्यकों पर चिंता व्यक्त की गई। इस याचिका में मानव अधिकारों के उल्लंघन का हवाला देते हुए हाल ही में पारित हांगकांग सुरक्षा कानून को उठाया है। इसे चीन और हांगकांग के बीच ‘एक देश, दो प्रणाली’ के खिलाफ बताया गया है।

इन देशों में ऑस्ट्रेलिया, ऑस्ट्रिया, बेल्जियम, बेलीज, कनाडा, डेनमार्क, एस्टोनिया, फिनलैंड, फ्रांस, आइसलैंड, जर्मनी, जापान, लातविया, लिकटेंस्टीन, लिथुआनिया, लक्समबर्ग, मार्शल आइलैंड्स, नीदरलैंड्स, न्यूजीलैंड नॉर्वे, पलाऊ, स्लोवाकिया, स्लोवेनिया, स्वीडन, स्विट्जरलैंड, यूनाइटेड किंगडम शामिल हैं।

भारत के साथ सीमा विवाद के अलावा भी चीन ने पड़ोस के देशों की नाक मे दम कर रखा है, उनकी विस्तारवादी रणनीति के कारण दुनिया का माहौल और भी अधिक भयानक होता जा रहा है, एक तरफ जहां दुनिया coronavirus से जंग लड़ रही है, वहीँ चीन के ऐसे बर्ताव से समस्या और भी बढ़ रही है। 

कोरोना वायरस के प्रकोप के बाद चीन को दुनिया भर में आलोचना का सामना करना पड़ रहा है। इस महामारी से अब तक 513,913 लोगों की मौत हो गई है, जबकि 10,585,152 लोगों संक्रमित हो चुके हैं। चीन पर कोविड-19 के प्रकोप को छिपाने को लेकर सवाल उठते रहते हैं। कुछ रिपोर्टों के अनुसार, वायरस से संबंधित संक्रमण चीन में अगस्त के शुरू में शुरू हुआ था। दुनिया भर में महामारी के बीच चीन ने सभी अपनी विस्तारवादी नीति को आगे बढ़ाया है।

याचिका में चीन से संयुक्त राष्ट्र के उच्चायुक्त को झिंजियांग और हांगकांग तक पहुंचने की अनुमति देने का आग्रह किया गया, ताकि वहां पर अंतर्राष्ट्रीय कानून के तहत आने अधिकारों और स्वतंत्रता की रक्षा की जा सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *