कानपुर में पुलिस पर की बदमाशों ने फायरिंग, DSP समेत 8 शहीद

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

कानपुर में एक हिस्ट्रीशीटर को पकड़ने जब पुलिस बल वहां पहुंची तो बदमाशों ने उनपर अंधाधुंध फायरिंग की। इसी मुठभेड़ में एक क्षेत्राधिकारी यानी डिप्टी एसपी समेत आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गए। इसके अलावा 7 पुलिसकर्मी घायल भी बताये जा रहे है। कानपुर के चौबेपुर थाना इलाके में पुलिस ने बिकरू गांव को चारों तरफ से घेर लिया था। पुलिस यहां हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को गिरफ्तार करने के मकसद से गयी थी। विकास दुबे वही अपराधी है, जिसने राजनाथ सिंह सरकार में मंत्री का दर्जा पाए संतोष शुक्ला की थाने में घुसकर हत्या की थी। वारदात पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने डीजीपी और अपर मुख्य सचिव गृह से बात की है। विकास के खिलाफ 60 केस दर्ज है। 

शहीद हुए DSP और 7 पुलिसकर्मी

1-देवेंद्र कुमार मिश्र,सीओ बिल्हौर
2-महेश यादव,एसओ शिवराजपुर
3-अनूप कुमार,चौकी इंचार्ज मंधना
4-नेबूलाल, सब इंस्पेक्टर शिवराजपुर
5-सुल्तान सिंह कांस्टेबल थाना चौबेपुर
6-राहुल ,कांस्टेबल बिठूर
7-जितेंद्र,कांस्टेबल बिठूर
8-बबलू कांस्टेबल बिठूर

कैसे हुआ यह हादसा?


उत्तर प्रदेश के डीजीपी एचसी अवस्थी ने कहा कि विकास दुबे के खिलाफ कुछ दिन पहले हत्या के प्रयास का केस दर्ज हुआ था। पुलिस विकास दुबे को गिरफ्तार करने गई थी। जैसे ही फोर्स गांव के बाहर पहुंची तो वहां जेसीबी लगा दी गयी। इस कारण फोर्स गाडी अंदर नहीं ले जा स्की और उन्हें पैदल जाना पड़ा। तभी पहले से घात लगाए बदमाशों ने फायरिंग शुरू कर दी। पुलिस की ओर से भी जवाबी फायरिंग की गई। बदमाश ऊंचाई पर थे, इस वजह से पुलिसकर्मियों को गोलियां लगी है। 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *