असम में बाढ़ से काजीरंगा नेशनल पार्क में कई जानवरो की मौत

बाढ़ के कारण काजीरंगा नेशनल पार्क में बहते हुए पानी ने  जानवरों को खतरे में डाल दिया है। एसडीएमए द्वारा बुधवार को जारी बुलेटिन के अनुसार, काज़ीरंगा नेशनल पार्क में 223 शिविरों में से 167 बाढ़ से प्रभावित हुए हैं। बुलेटिन ने कहा कि 66 जानवरों की मौत हो गयी है, जबकि 117 जानवरो को राष्ट्रीय उद्यान में बचाया गया है।

यह पार्क हाथियों, भारतीय हॉग हिरणों, जंगली भैंसों और एक सींग वाले राइनो का घर है, जो एक ऐसी प्रजाति है जिसे “जंगल में विलुप्त होने के उच्च जोखिम” यानी एक्सटिंक्ट होने की कगार में माना जाता है।

 हिंदुस्तान टाइम्स ने बताया कि पार्क में दो गैंडों की डूबने से मौत हो गई। राष्ट्रीय उद्यान के अज्ञात अधिकारियों ने समाचार पत्र को बताया कि पार्क के मध्य रेंज में तिनिमुखुनी नाला और मिक्क्रजन टंगी क्षेत्रों में मंगलवार को एक नर और एक मादा गैंडे के शव मिले थे।

पार्क की अगरतोली रेंज में अपनी मां से बिछड़ गए एक साल के बच्चे गैंडे को बुधवार सुबह काजीरंगा के कर्मचारियों के साथ सेंटर फॉर वाइल्डलाइफ रिहैबिलिटेशन एंड कंजर्वेशन की टीम ने बचा लिया। मादा बछड़े को अब सीडब्ल्यूआरसी बचाव केंद्र में देखभाल के लिए रखा गया है। हालांकि, बचाव दल मां का पता लगाने में असमर्थ रहा है।

इस बीच, वन्यजीव अधिकारियों और बचावकर्मियों ने बाढ़ से घिरे काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान में दो दिनों से भी कम समय में तीन बाघों के लिए एक सुरक्षित मार्ग प्रदान किया। अधिकारियों ने उन्हें पार्क के दक्षिणी किनारे के साथ एक राजमार्ग से परे पहाड़ियों की सापेक्ष सुरक्षा के लिए निर्देशित किया।

“केएनपी की पश्चिमी सीमा के बाहरी इलाके बाघमरी गाँव में दो बाघ तैरते हुए आ गए।” पार्क के निदेशक, पी शिवकुमार ने अखबार को बताया। “एक को कार्बी आंग्लॉन्ग की ओर निर्देशित किया गया था और सुरक्षित रूप से पहुंचाया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *