January 19, 2021

Live Akhbar

Pop Culture Hub

एकता की शक्ति होता है योग,यह भेदभाव नही करता-पीएम मोदी का संदेश

               योग एक जीवन जीने की कला है
21 जून-विश्व योगा दिवस पीएम मोदी का देशवासियों को संदेश -योग कभी भी किसी नस्ल,लिंग,जाती,धर्म और राष्ट्रों के आधार पर कोई भेद नही करता ,योग एकता में शक्ति का स्वरूप है।विश्व के ज्यादातर देश कोरोना वायरस की म्हांरी से ग्रसित है और ऐसे समय में योग की अवष्यतकता सबसे ज्यादा ज़रुरी है और लोगोबको योग को अपने जीवन में अपनाना बहुत ज़रूरी है।योग एक धरोहर है जो सदियों से चला आ रहा है ।
पीएम मोदी ने कहा-हम इस महामारी से लड़ सकते है अगर हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता मज़बूत हो तो इस महामारी से लड़ने में काफी मददगार रहेगा।अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए योगा में बहुत से आसन है जो हमे मदद करेंगे।अगर हमे नियमित रूप से प्राणायाम और अन्य सांस से संबंधित योग करते है तो यह कोरोना वायरस जो सीधे हमारे श्वसन तंत्र पर हमला करता है ,प्राणायाम करने से इसका असर घट जाएगा और फेफड़ों को मज़बूती मिलेगी।
योग से हम स्वस्थ,रोक मुक्त जीवन जी सकते है।यह एकता की ताकत के रूप में उभरा है जो मानवता को और बढ़ावा देने में कारगर साबित होता है।योग को कोई भी अपना सकता है ,यह किसी भी तरह के नस्ल,रंग,जाती,धर्म राष्ट्र का भेद नही करता।हमे इसे अपने जीवन में नियमत रूप से सुबह करना ही चाहिए।योग में सभी बीमारियों का समाधान है।
इस साल सोशल डिस्टेनसिंग का पालन करते हुए थीम रखी गयी है घर पर योग,परिवार के साथ योग।कोरोना वायरस के प्रवाह से बचने के किये समूह योग का आइजन कहीं भी नही किया गया और सभी जगह डिजिटल माध्यमों से जुड़ने के आदेश दिए गए।
11 दिसंबर 2014 को संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा घोषणा की गयी थी की 21 जून अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाया जाएगा।
Loading...