विश्व शरणार्थी दिवस: हम सब है शरणार्थियों(refugees) के साथ

हर वर्ष 20 जून को दुनिया भर में विश्व शरणार्थी दिवस मनाया जाता है। इस दिन का सभी के जीवन मे एक महत्व ज़रूर होना चाहिए। 

मुख्य उद्देश्य
यह दिन उन लोगो को सम्मानित करने के लिए मनाया जाता है जो हिंसा, संघर्ष,राजनीति, युद्ध, प्रताड़ना और धर्म के कारण देश छोड़ने को मजबूर होते है। उन्हें अपना घर और अपने देश को छोड़कर कही और जाना पड़ता हक। ताकि आम लोगो का ध्यान इस समस्या पर पड़े इसलिए हर साल 20 जून को विश्व शरणार्थी दिवस मनाया जाता है।

कैसे हुई इसकी शुरुवात
इसकी शुरुवात संयुक्त राष्ट्र संघ(united nation organisation) द्वारा की गयी थी। सन 2000 में UNO ने इस दिवस की स्थापना की थी। और तबसे हर साल 20 जून को यह मनाया जाता है। यह दिन उन्होंने यह सोच के स्थापित किया था की कोई भी इंसान आमान्य नही होता है, सब सामान्य होते है। यह दिन लोगो मे जागरूकता फैलाने के लिए मनाया जाता है।
UNCHR
संयुक्त राष्ट्र संघ की संस्था UNHCR (United Nations High Commissioner for Refugees ) इन शरणार्थियों की मदद करने के लिए बनाई गई है। यह संस्था उन्हें कानूनी सुरक्षा प्रदान करता है। यह शरणार्थियों के लिए नई जगह लंबे समय तक के लिए घर खोजने की कोशिश करता है। यह उनकी लम्बी समस्या का स्थायी समाधान ढूंढता है। चाहे वो किसी भी देश का या किसी भी धर्म का हो   हमारे लिए सभी सामान्य है।
UNHCR की रिपोर्ट के मुताबिक 2019 मे ही 1 करोड़ लोगों को अपना देश छोड़ना पड़ा था। अब तक करीब 79 करोड़ 50 लाख लोगों को कोई न कोई कारण की वजह से अपना देश छोड़ना पड़ा है। इस विषय मे अब ध्यान देने की काफी ज्यादा ज़रूरत है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

DMCA.com Protection Status