January 22, 2021

Live Akhbar

Pop Culture Hub

केरल का ‘जुड़वा बच्चो का गांव’, जहां सिर्फ पैदा होते है जुड़वा बच्चे

आपने कई रहस्यमय कहानी सुनी होगी लेकिन यह कहानी आपको चौका देने वाली है। केरल के दक्षिण में एक ऐसा गांव है जहां सिर्फ और सिर्फ जुड़वा बच्चे ही पैदा होते है। काफी कम बारे ऐसा होता है जिस घर मे जुड़वा बच्चे पैदा न हो। आज तक कोई भी वैज्ञानिक इस रहस्य का पता नही लगा पाया है।

केरल का कोडिन्ही गांव
केरल के दक्षिण में मलाप्पुरम जिले के कोडिन्ही गांव को ‘जुड़वा बच्चो के गाँव’ से भी जाना जाता है। यह गांव अब विश्व भर में प्रसिद्ब होता जा रहा है। 2008 में इस गांव ने एक रिकॉर्ड तोड़ा था। एक ही साल में इस गांव में 280 जुड़वा बच्चे पैदा हुए थे। सभी डॉक्टर्स भी इस बात से दंग रह गए थे। इसके बाद यह आंकड़ा कम नही हुआ बल्कि बढ़ता ही रहा।

जुड़वा बच्चे होने की संख्या है 50% से भी ऊपर
आमतौर पर बात करे तो डॉक्टर्स बताते है कि हर हज़ार बच्चे की संख्या में 9 जुड़वा बच्चे पैदा होने की आशंकाएं रहती है। इस गांव में यह 50% से भी ऊपर है। यहां उल्टा है, हर हज़ार बच्चो में सिर्फ 9-10 जुड़वा नही होते। 
कई संस्थाए आयी है दौरा करने
कई देशी और विदेशी संस्थाए भी यहां दौरा करने आई है। इन संस्थाओं में सीएसआईआर- सेंटर फॉर सेल्यूलर एंड मॉलीक्यूलर बॉयोलॉजी, हैदराबाद केरल विश्वविद्याल की फिशरीज ओशन एंड स्टडीज की टीम के साथ यूनिवर्सिटी ऑफ लंदन एंड जर्मनी यहां आ चुके है। वैज्ञानिक यहां आकर इनके बालो के और थूक के सैंपल इखट्टा कर अभी तक इस बार पर रिसर्च कर रहे है।
वहां बच्चे बताते है कि उनकी क्लास में सिर्फ जुड़वा बच्चे ही है, गिन चुन के अकेले बच्चे है। शिक्षक बताते है कि जुड़वा बच्चे होने के कारण उन लोगो को काफी परेशानी आती है लेकिन अब उन्हें इस चीज़ की आदत हो गयी है।