January 17, 2021

Live Akhbar

Pop Culture Hub

जब पाकिस्तान के विरुद्ध अपने खिताब का बचाव नहीं कर सका भारत।

18 जून 2017 चैंपियंस ट्रॉफी फाइनल भारत 2013 में जीते अपने खिताब को बचाने की कोशिश कर रहा था। मगर भारत का सामना था उसकी चिर प्रतिद्वंदी पाकिस्तान से।

विराट कोहली की कप्तानी में 2017 चैंपियंस ट्रॉफी के दौरान भारत ने अपने पहले ही मैच में पाकिस्तान को करारी शिकस्त दी थी मगर उसे श्रीलंका के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा पर उसके बाद भारत में साउथ अफ्रीका और सेमीफाइनल में बांग्लादेश को काफी आसानी से हरा दिया।
  वहीं दूसरी ओर पाकिस्तान ग्रुप स्टेज में भारत के खिलाफ अपना पहला मैच हारने के बाद तगड़ी वापसी करते हुए सेमीफाइनल में मेजबान इंग्लैंड को हरा चुका था।
फाइनल में यह कयास लगाए जा रहे थे भारत अपनी अच्छी बल्लेबाजी के चलते पाकिस्तान को आसानी से मात दे देगा। 
पाकिस्तान ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 338 रनों का लक्ष्य भारत के सामने रखा। फखर ज़मान की ताबड़तोड़ 114 रनों की पारी में पाकिस्तान को एक काफी अच्छे स्कोर तक पहुंचाया। इस दौरान भारत के गेंदबाजों की तरफ से 13 वाइड और तीन नो बॉल फेकी गई। भारत के नंबर 1 गेंदबाज जसप्रीत बुमराह ने 9 ओवरों में 68 रन दिए।
भारत की शुरुआत कुछ खास नहीं रही भारत ने पहले 3 ओवरों में विराट कोहली और रोहित शर्मा के विकेट खो दिए। और 10 ओवरों के भीतर भारत में शिखर धवन का विकेट भी खो दिया। और उसके बाद भारत के सबसे अनुभवशाली खिलाड़ी महेंद्र सिंह धोनी और युवराज सिंह को भी पाकिस्तानी बोलेरो ने सस्ते में चलता किया। इन दोनों के आउट होते ही भारत की जीत की उम्मीदों पर जैसे पानी फिर गया। मगर हार्दिक पांड्या ने कुछ बड़े शॉर्ट्स के साथ सुमित को बरकरार रखने की कोशिश की परंतु रविंद्र जडेजा की गलती के चलते हार्दिक भी 43 गेंदों में 76 रनों की पारी खेलकर रन आउट हो गए। 
यह पहला मौका था जब भारत को पाकिस्तान के खिलाफ आईसीसी के नॉकआउट मैच में हार का सामना करना पड़ा हो। 
मोहम्मद सरफराज चैंपियंस ट्रॉफी जीतने वाले पाकिस्तान के पहले कप्तान बने और उन्होंने भारत के डिफेंडिंग चैंपियन बनने के सपने को साकार नहीं होने दिया।