केन्या की तरह भारत मे भी है ‘लेक ऑफ़ नो रिटर्न’, किसी को नहीं पता इसका रहस्य

आज हम आपको भारत देश में स्तिथ एक ऐसे झील से रूबरू कराएंगे जिसके बारे में आपने काफी कम सुना होगा। आज हम आपको इस रोचक तथ्य(interesting fact) के बारे में सारी जानकारी देंगे। यह झील भारत और म्यांमार की बॉर्डर पर स्तिथ है। भारत में यह अरुणाचल प्रदेश में स्तिथ है।  इस झील से लेकर कई ऐसी घटनाये जुडी है जिसका रहस्य आज तक कोई पता नहीं कर पाया है। बताया जाता है की जो इस लेक के पास जाते है वो वहां से कभी लौट कर वापस नहीं आ पाते है।

कैसे नाम पड़ा लेक ऑफ़ नो रिटर्न?
अरुणाचल प्रदेश में स्तिथ इस झील से काफी घटनाये जुडी हुई है। बताया जाता है की जब विश्व युद्ध दो का समय चल रहा था तब कई देश भारत होकर गुज़रते थे। उसी दौरान अमेरिका जब वहां से गुज़र रहा था तो उन्होंने अपनी जहाज की इमरजेंसी लैंडिंग भारत में की। उन्होंने इस झील को समतल ज़मीन मानकर लैंडिंग कर दी थी। लेकिन जहाज की लैंडिंग होने के बाद वह रहस्य्मय तरीके से गायब होगी। जहाज और पायलट का आज तक पता नहीं चला। जब यह खबर अमेरिका पहुंची तो अमेरिका ने लोगो को पता लगाने भेजा की वो कहाँ गए। वह लोग भी वहां से वापस लौटकर नहीं आये।

दूसरे विश्व युद्ध के दौरान ही उस रास्ते से जापान के सैनिक गुज़र रहे थे। वे आधे में ही रास्ता भटक गए और झील की तरफ पहुंचे। झील पहुँचते ही सभी सैनिक रेत में धस के गायब हो गए।

आज भी कई लोग इन प्रचलित कहानियो को सुनकर वहां घूमने जाते है लेकिन कोई भी पानी के अंदर जाने की हिम्मत नहीं करता। लोगो को अभी भी उस झील से भय है। लोग वहां जाकर बाहर से ही घूम कर वापस आ जाते है। कई वैज्ञानिक इस रहस्य को ढूंढने की अब तक कोशिश कर रहे है लेकिन अब तक इसे कोई नहीं ढूंढ पाया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

DMCA.com Protection Status