चैपल ने टीम का विध्वंस कर दिया था: हरभजन सिंह

भारतीय स्पिनर हरभजन सिंह ने यह खुलासा किया 2007 का विश्व कप उनके करियर का सबसे खराब समय था। उस वक्त वे क्रिकेट को अलविदा कहने के बारे में सोच चुके थे।


   ग्रेग चैपल और हरभजन सिंह

पूर्व भारतीय ओपनर आकाश चोपड़ा के साथ एक स्पष्ट वार्तालाप में हरभजन सिंह ने भारत के पूर्व कोच रहे ग्रेग चैपल को एक अपराधी बताया, जिसकी टीम की स्थापना के भीतर डिवाइड एंड रूल नीति थी।

    ग्रेग चैपल और सौरव गांगुली

हरजभन ने कहा कि ग्रेग चैपल एक ऐसा इंसान था जो एक मजबूत से मजबूत टीम का विध्वंस कर सकता था।
उन्होंने ग्रेग चैपल के भारत का कोच बनने के निर्णय को भी संदेह की नजर से देखा। ग्रेग चैपल के कार्यकाल के दौरान महान खिलाड़ी सौरव गांगुली को अपनी कप्तानी से इस्तीफा देना पड़ा और फिर बाद में उन्होंने टीम में अपनी जगह भी खो दी।

   भारतीय टीम 2007 वनडेे विश्व में बांग्लादेश केे       हाथों मिली हार के बाद।

हरभजन ने 2007 में हुए वनडे विश्व कप की हार का आरोप भी ग्रेग चैपल पर ही लगाया। उन्होंने कहा कि यह एक ऐसा समय था जब टीम का कोई भी खिलाड़ी दूसरे खिलाड़ी पर विश्वास नहीं करता था। टीम का माहौल इतना खराब था, कि उस वक्त हम श्रीलंका और बांग्लादेश जैसी मामूली टीमों से हार गए थे जबकि हम  काफी मजबूत टीम थे।

    वेंकटेश प्रसाद लालचंद राजपूत और रोबिन सिंह

हरभजन ने कहा कि चैपल के इस्तीफा देने के बाद , चीजें  जस की तस होने लगी। उन्होंने कहा कि भारत को 2007 T20 विश्व कप विजेता बनाने के पीछे भारतीय कोच रहे लालचंद राजपूत , रोबिन सिंह और वेंकटेश प्रसाद का बहुत बड़ा हाथ रहा , उन्होंने टीम के साथ काफी मेहनत की और विजेता भी बनाया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

DMCA.com Protection Status