भारत-चीन तनाव में राजनाथ सिंह कर रहे रूस का दौरा, हथियारों पर होगी बात

कोरोना माहमारी के कारण देश के रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने पिछले 3 महीनों से एक भी विदेशी यात्रा नही की है। तीन महीने बाद अब वे रूस का दौरा करेंगे। आज दोपहर 12 बजे उनकी रूस के मंत्रियों के साथ बैठक होगी।
75th विक्ट्री डे परेड कार्यक्रम में होंगे शामिल

भारी और चीन के इस तनाव में राजनाथ सिंह रूस के तीन दिन के दौरे पर है। रूस में होने वाले विक्ट्री डे परेड के 75 साल पूरे होने पर राजनाथ सिंह इस कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे। इस परेड में भारतीय सेना की 2 बटालियन भी परेड करेगी।  
पहली बार होंगे मंत्री आमने सामने (भारत-चीन)

इस कार्यक्रम में रूस ने भारत को और चीन दोनों को ही न्यौता दिया है। विवाद के बाद ऐसा पहली बार होगा जब भारत और चीन के मंत्री आमने सामने होंगे। लेकिन भारत ने पहले ही फैसला ले लिया है कि वह चीन से किसी भी तरह को अनोपचारिक बात नही करेगा।
अभी के हालात देखते हुए राजनाथ सिंह का यह दौरा काफी ज्यादा अहम है। भारत और रूस की काफी पुरानी दोस्ती है। रूस के चीन के साथ सम्भन्ध कुछ सालों से अच्छे होते जा रहे है। ऐसे में एशिया के दो शक्तिशाली देश के विवाद के बीच रूस की भूमिका काफी ज्यादा अहम हो जाएगी।
हथियारों की डिलीवरी पर होगी बात
राजनाथ सिंह रूस के साथ हो रही डील पर भी बैठक करेंगे। रूस-भारत की हथियारों पर डील हुई थी। यह कहा जा रहा है कि भारत हथियारों की डिलीवरी की जल्दी मांग कर सकते है। इसमे फाइटर एयरक्राफ्ट, सबमरीन और टैंक भी शामिल है। रूस के साथ बड़े हथियारों की डील में सबसे अहम है एस-400 डिफेंस सिस्टम. एस-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम भारत को दिसंबर 2021 तक मिलना था, लेकिन कोविड-19 की वजह से उसकी डिलीवरी में देरी हो रही है। चीन के विवाद को देखते हुए भारत इन हथियारों की डिलीवरी की जल्द से जल्द मांग कर रहे है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *