उच्च न्यायालय ने इस वर्ष पुरि रथ यात्रा पर लगाई रोक

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

मुख्य न्यायाधीश ने कहा अगर इस वर्ष रथ यात्रा आयोजित करवाई गयी तो भगवान जगन्नाथ हमे कभी माफ नही करेंगे ।
इस वर्ष 23 जून को आयोजित होने वाली जगन्नाथ पूरी में रथ यात्रा पर उच्च न्यायालय ने रोक लगा दी है।
मुख्य न्यायाधीश एस ए बोबड़े बेंच का नेतृत्व करते हुए कहा Covid 19 महामारी के चकते कोई भी सार्वजनिक कार्य की अनुमति देने का निर्णय बिल्कुल भी उचित नही होगा।अभी जनता का स्वास्थ्यय और बचाव  करना अति आवश्यक है।कोरोना वायरस के चलते सामूहिक कार्य करना बहुत खतरनाक साबित हो सकता है।
अदालत ने आदेश दिया है की इस वर्ष पुरी में जगन्नाथ यात्रा जो 23 जून (गुरुवार) के दिन तय थी उसका आयोजन वो स्थगित करते है एवं किसी भी राज्य में रथ यात्रा या कोई भी धार्मिक सामूहिक कार्य की अनुमति नही है।
क्या आप जानते है ‘जुगर्नॉट’ शब्द किधर से आया है और इसका अर्थ क्या है?यह शब्द  का मूक शब्द जगन्नाथ है जिसका अर्थ है जो कभी रोक न जाए।
बहुत सी पार्टियों द्वारा अदालत के इस निर्देश का विरोध किया गया ,नेताओं ने जहाँ कुछ ज़रूरी अनुष्ठानों को करने की अनुमति मिलना चाहिए।पर उच्च न्यायालय का फैसला दृढ़ है और राज्य सरकार का प्रतिनिधित्व करने वाले वरिष्ठ वकील हरीश साल्वे ने सहमति जताई और अपनी तथ्य व्यक्त किया पक भर में कोई उत्सव का आयोजन जनता को सड़को पर एकत्र करडेगा और यह खतरे से खाली नही।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *